Select Page

बसंत के गीत

🙏🌹 *गीत बसंती~सार छंद*🌷🙏 ******************************** (सार छंद) बाँध बोरिया बिस्तर अपना, दुबक चला जड़काला। अब बसंत आया अलबेला, दिखता नया निराला। बाग बगीचे कानन झुरमुट, बरबस ही बौराए। यौवन व्यापक यत्र-तत्र तब, राग बसंती गाए। कामदेव युवराज स्वागतम्, स्वीकारो वरमाला।...

मुसवा (सार छंद)

  मुसवा(सार छंद) कुरकुर – कुरकुर करे रात दिन, मुसवा करिया करिया। कुटी कुटी कपड़ा ला काटे, मति हा जाथे छरिया। खा खा के भोगाये हवै,धान चँउर फर भाजी। भँदई पनही घलो तुनागे,नइ बाँचत हे खाजी। कभू खोधरे परवा छानी,अउ घर अँगना कोड़े। तावा के रोटी ला झड़के,आरुग कुछु नइ...

माँ की ममता

माँ की ममता (सार छंद) माँ की ममता होती प्यारी , कोई जान न पाये । हर संकट से हमें बचाती , उसकी सभी दुआएँ ।।1।। पल पल नजरें रखती है वह , समझ नहीं हम पाते । टोंका टांकी करती है जब , हम क्यों गुस्सा जाते ।।2।। भूखी प्यासी रहकर भी माँ , हमको दूध पिलाती । सभी जिद्द वह पूरा...

माखन चोरी गीत

संग लिये प्रभु ग्वाल बाल को, करते माखन चोरी । मेरो घर कब आयेंगे वो, राह तके सब छोरी ।। सुना-सुना घर वो जब देखे, पहुँचे होले-होले । शिका तले सब ग्वाले ठाँड़े, पहुँचे खिड़की खोले ।। ग्वाले कांधे लिये कृष्ण को, कृष्णा पकड़े डोरी । संग लिये प्रभु ग्वाल बाल को, करते माखन चोरी...

छोड़ शांति के खादी

घात प्रश्न तो आज खड़े हे, कोन देश ला जोरे ।भार भरोसा जेखर होथे, ओही हमला टोरे ।।नेता-नेता बैरी दिखथे, आगी जेन लगाथे ।सेना के जे गलती देखे, आतंकी ला भाथे ।।काला घिनहा-बने कहँव मैं, एके चट्टा-बट्टा ।सत्ता धरके दिखे जोजवा, पाछू हट्टा-कट्टा ।।देश पृथ्ककारी के येही,...
error: