Select Page

दुई ढंग ले, होथे जग मा, काम-बुता

दुई ढंग ले, होथे जग मा, काम-बुता ।हाथ-गोड़ ले, अउ माथा ले, मिले कुता ।।माथा चलथे, बइठे-बइठे, जेभ भरे ।हाथ-गोड़ हा, देह-पान ला, स्वस्थ करे ।।दूनों मिल के, मनखे ला तो, पोठ करे ।काया बनही, माया मिलही, गोड़ धरे ।बइठइया मन, जांगर पेरव, एक घड़ी ।जांगर वाले, धरव बुद्वि ला, जोड़...
error: