Select Page

बड़ा तंग किना (भजन)

बड़ा तंग किना (पैरोड़ीगीत भजन) ओ मईयाजी …….. बड़ा तंग किन्हा तेरे किसन ने बड़ा तंग किना -2 दूध दही चुराये, संग साथी बुलाये, घर घुस चढ़ जावे ये जिना बड़ा तंग किन्हा तेरे किसन ने बड़ा तंग किना ओ मईयाजी …….. बड़ा तंग किन्हा ओ ग्वाला है हम ग्वालिन...

मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से (पैरोड़ीगीत भजन) मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से ग्वाला रे गोकुल के हाहा हाहा हाहा गोकुल के ग्वाला, गोकुल के ग्वाला छेड़े...

द्वारिका पुरी सुहानी रे भैया

द्वारिका पुरी सुहानी रे भैया (पैरोड़ीगीत भजन) द्वारिका पुरी सुहानी रे भैया नही कोई इसका सानी है । बांके बिहारी तो यहां है रहते-2 जहां उसकी राजधानी है ।। सागर श्याम को जगह है दीन्हो विश्वकर्मा ने यह रचना है कीन्हो कान्हा अपना वास जहां है लीन्हो वसे है जहां उसके पटरानी...

मैं विनय करंव कर जोर

मैं विनय करंव कर जोर ओ, मोर मरकी माता, जस गावंव तोरमोर शितला ओ माता, जस गावंव तोरमोर गांव हरदी बजार के, लीम तरी तोरे डेराबइगा बबा संग पुजारी, करत जिहां हे बसेरासंग मा सेवा बजावंव ओ,सरधा के छलके आंसू ले, तोरे पांव पखारंवअपन मन के सबो मनौती, तोरे चरण मढावंवफेर नरियर जस...

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रेजतन करव नोनी के संगी जतन करव रेमोर जतन करव रे ओ.. मोर जतन करव रेमैं नारी दुखयारी अंवनर नारी के जननी महतारी अंव महतारी अंवजतन करव रे……पेट भीतर काबर कोनो नोनी बाबू जांचेनोनी नोनी ला मारे तैं बाबू बाबू हा बाचेतुहर करेजा बाबू के...
error: