Select Page

हिन्दी छत्तीसगढ़ी भाखा

हिन्दी छत्तीसगढ़ी भाखा, अंतस गोमुख के गंगा ।छलछल-छलछल पावन धारा, तन मन ला राखे चंगा ।।फेशन बैरी छाती छेदय, मिलावटी बिख ला घोरे ।चुटुर-पुटुर अंग्रेजी आखर, पावन धारा मा बोरे...
error: