Select Page

जय भोलेनाथ

  जय भोलेनाथ ( ताटंक छंद) शिव शंकर को जो भी पूजे , मन वांछित फल पाते हैं । औघड़ दानी शिव भोला है , जल्दी खुश हो जाते हैं ।। शिवरात्री के महा पर्व पर , दर्शन करने जाते हैं । श्रद्धा पूर्वक फूल पान सब , अर्पित करके आते हैं ।। बाघाम्बर को लपटे रहते , गले नाग की माला...

हिन्दी छत्तीसगढ़ी भाखा

हिन्दी छत्तीसगढ़ी भाखा, अंतस गोमुख के गंगा ।छलछल-छलछल पावन धारा, तन मन ला राखे चंगा ।।फेशन बैरी छाती छेदय, मिलावटी बिख ला घोरे ।चुटुर-पुटुर अंग्रेजी आखर, पावन धारा मा बोरे...
error: