Select Page

मुसवा (सार छंद)

  मुसवा(सार छंद) कुरकुर – कुरकुर करे रात दिन, मुसवा करिया करिया। कुटी कुटी कपड़ा ला काटे, मति हा जाथे छरिया। खा खा के भोगाये हवै,धान चँउर फर भाजी। भँदई पनही घलो तुनागे,नइ बाँचत हे खाजी। कभू खोधरे परवा छानी,अउ घर अँगना कोड़े। तावा के रोटी ला झड़के,आरुग कुछु नइ...

ददा

…………….ददा………………… कभू मचान कस,त कभू ढलान कस ददा। घर बर ‘बर’ फेर बइरी बर,बान कस ददा। भदरी काँड़ मुँड़का म,नेवान कस ददा। हाड़ – माँस-गुदा-लहू म,परान कस ददा। लात तान के सुते हवै ,सबो घर...

हमर वोट

हमर वोट(गीत) हमर वोट हमर राज के,पहिचान बनही आज। हम जेला चुन जिताबों,वो सियान बनही आज। जल जंगल जमीन ला। लोहा कोइला टीन ला। साथी पाँखी नवा मिलही, छोटे बड़े अउ दीन ला। गाँव शहर टोला कस्बा के,अरमान बनही आज। हमर वोट हमर राज के,पहिचान बनही आज। सड़क छत खेत खार। कुँवा बउली...

किसनहा के हार

.किसनहा के हार. न बारी;बारी होइस, न बारी कोठार होइस | फेर ए बारी , किसनहा के हार होइस | न जमके असाढ़ अइस, न जमके सावन | मरे के जघा सजोर होगे, अऊ बइरी रावन | जे हुदरत हे;हपटत हे; झपटत हे | किसन्हा रो-रोके मुडी़ पटकत हे | न हरेली;न तीजा पोरा, न बने देवारी तिहार...

मातर हे मोर गाँव म

  मातर हे मोर गाँव म ——————————- देवारी के बिहान दिन, मातर हे मोर गाँव  म। नेवता   हे झारा-झारा, घरो-घर उघरा राचर हे, मोर  गाँव म———। गाँव-गुढ़ी   के  मान  म। सकलाबोन गऊठान म। राऊत भाई...
error: