Select Page

जीबो मरबो देश बर

एक कसम ले लव सबो, जीबो मरबो देश बर । करब देश हित काम सब, गढ़ब चरित हम देश बर ।। मरना ले जीना कठिन,  जी के हम तो देखबो । तिनका तिनका देश बर, चिरई असन सरेखबो ।। भरबो मरकी देश के, बूँद-बूँद पानी होय के । जुगुनू जस बरबो हमन, जात-पात अलहोय के ।। अपन गरब सब छोड़ के, गरब करब...

धन धन तुलसी दास ला,

धन धन तुलसी दास ला, धन धन ओखर भक्ति ला।रामचरित मानस रचे,  कहिस चरित के शक्ति ला ।।मरयादा के डोर मा, बांध रखे हे राम ला ।गढ़य चरित मनखे अपन, देख राम के काम ला ।जीवन जीये के कला, बांटे तुलसी दास हा ।राम बनाये राम ला, मरयादा के परकाश हा ।।रामचरित मानस पढ़व, सोच समझ के...
error: