Select Page

जय मॉ जगद्धात्री

*** जय मॉ जगद्धात्री मॉ की जय *** *** ” ॐ सृस्टिस्थितिविनाशानाम शक्तिभूते सनातनी। गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमःस्तुते।।” 💐💐💐 जगत जननी श्री चण्डी का एक रूप है मॉ जगद्धात्री (जगत-संसार,सृस्टि को धारणकर रक्षा करनेवाली आधारभूता आदि महाशक्ति)। असुरीय अत्याचार जब...

जय छ्ठ माता की जय-जय अरपा माता की जय

जय छ्ठ माता की जय – जय अरपा माता की जय। बिलासपुर के जीवन दायिनी अन्तःसलिला सदायौवना अरपा नदी। वर्षान्त मे जलामृत से परिपूर्णा शांत स्वभाव लास्यमयी अरपा। शारदीय उत्सवपूर्ण महल मे छठ माता के आगमनी बार्ता प्राप्तकर शृंगार किये है अरपा माता। स्वच्छ परिवेश मे आलोक...

कंजूस खोपड़ी

छत्तीसगढ़ी व्यंग -कंजूस खोपड़ी हद सबो के होथे। बिगर हद के पहिचान नइ बनय। ओकरे सेती अति ल जम्मो जघा बरजे गे हे। हद ले जादा होए ले नुकसाने होथे। फइदा के बाते झन सोचय। जे अन ल बिन खाए मनखे जीए नइ सकय। उही ल हद ले जादा खाए म खटिया धर लेथे। त अउ दूसर जिनिस के तो बाते छोड़ दे।...

एके हाथ ले ताली बजथे गा

व्यंग-एके हाथ ले ताली बजथे गा      आज-काल चारो डहर चुनाव के गोठ हवा मा घुरे हे । जेती देखव बस एकेठन काना फॅुसी हे ।  गाँव के टूरा-टनका मन एक-दूसर ले पूछत हे-कोन हा का बॉटत हे रे ?  फलनवा हा कुछु खर्चा-वर्चा बांटत हे का रे ?  फलाने पार्टी के चम्मच मन रात के घुमत रहिस...

देव उठनी एकादशी अउ तुलसी विवाह

देव उठनी एकादशी अउ तुलसी बिहाव            मास में कातिक मास, देवता में भगवान विष्णु अऊ तीरथ में नारायण तीरथ बद्रीकाश्रम ये तीनो ल श्रेष्ठ माने गे हे।  वेद पुरान में बताय गेहे की कातिक मास के समान कोनो मास नइ हे। ये मास ह धर्म ,अर्थ, काम अऊ मोक्ष के देने वाला हरे। ये...
error: