Select Page

 

पेड़ लगाओ (चौपाई) 

मिल जुलकर सब पेड़ लगाओ । ताजा ताजा फल को खाओ ।।
देती है यह सबको छाया । अदभुत इसकी है सब माया ।।

फूल पान औ फल को देती । बदले हमसे कुछ ना लेती ।
पत्ती जड़ से औषधि बनती । बीमारी को झट से हरती ।।

मिलकर पौधे रोज लगाओ । शुद्ध हवा तुम निशदिन पाओ ।।
सुबह शाम सब पानी डालो । बैठ छाँव में अब सुस्ता लो ।।

बैठे डाली पंछी गाये । मीठे मीठे फल को खाये ।
थककर राही नीचे आते । बैठ छाँव में अति सुख पाते ।।

जंगल झाड़ी कभी न काटो । भाई भाई इसे न बाटो ।।
मिलकर सारे पेड़ लगाओ । धरती को तुम स्वर्ग बनाओ ।।

महेन्द्र देवांगन माटी
पंडरिया छत्तीसगढ़
8602407353

Mahendra Dewangan Mati

error:

SURTA SHOP

SURTA SHOP में जाकर हमारे साहित्यिक किताबें खरीदें, जहां छंद शास्त्र और अन्य साहित्यिक पुस्तकें उपलब्ध हैं।

 

GO TO SURTA SHOP

You have Successfully Subscribed!

Share This