Select Page

छत्तीसगढ़ के पवित्र माटी मा,
बसे हे मूरता मोर गांव ।

जिला बेमेतरा के रहइय्या मै,
विक्रमसिंह “लाला” मोर नाव ।।

 मोर गांव म हावय सुघर 
बर पीपर के छइहां

गांव के बाहिर मा बिराजे हे,
मोर मावली मइया ।

 बीच म हावे ठाकुर देव 
आऊ उत्तर म बिराजे शीतला दाई।

उत्ती मा हे भोले बाबा,
सुघर घिरे रूख राई ।।

 शनि मंगल के बाजार भराथे ,
दूरियां दूरियां ले लोगन मन आथे ।।

 आईसन सुघर हावय मोर गांव मूरता।
झन भुलहू मोर गांव ल राखे रहूं सुरता ।।

 विक्रमसिंह”लाला”✍️
7697308413 ☎️

error:

SURTA SHOP

SURTA SHOP में जाकर हमारे साहित्यिक किताबें खरीदें, जहां छंद शास्त्र और अन्य साहित्यिक पुस्तकें उपलब्ध हैं।

 

GO TO SURTA SHOP

You have Successfully Subscribed!

Share This