Select Page

⚒️💪मैं मजदूर हूँ💪⚒️

✍️हाँ मैं मजदूर हूँ,
भले गमो से चूर हूँ।
फिर भी सर की ताज,
आँखों का नूर हूँ।।
हाँ मैं……………..।

✍️चलता मुझसे संसार है,
फिर भी नही गुरुर हूँ।
सबको बाँटु खुँशिया मैं,
मैं ही खुँशियों से दूर हूँ।।
हाँ मैं………………..।

✍️हौसला है ताकत मेरा,
मेहनत से भरपूर हूँ।
काम काज पूजा मेरा,
कामो से नही दूर हूँ।।
हाँ मैं……………..।

✍️समझता नही जरुरी मुझे,
फिर भी वहाँ जरूर हूँ।
इसी लिए तो मैं यारो,
सभी जगह मशहूर हूँ।।
हाँ मैं …………….।

✍️बताना नही चाहता मैं,
बोलने को मजबूर हूँ।
मत करो शोषण हमारा,
मैं तो यहाँ बेकसूर हूँ।।
हाँ मैं………………।

✍️मत देखो ऐसे नजरो से,
मैं नही मगरूर हूँ।
छल कपट चोरी से,
मैं तो कोसो दूर हूँ।।
हाँ मैं…………….।

              नागेश कश्यप

      कुँवागाँव, मुंगेली छ.ग.।।

          7828431744

error:

SURTA SHOP

SURTA SHOP में जाकर हमारे साहित्यिक किताबें खरीदें, जहां छंद शास्त्र और अन्य साहित्यिक पुस्तकें उपलब्ध हैं।

 

GO TO SURTA SHOP

You have Successfully Subscribed!

Share This