Select Page

देखा-देखी से जगत, आगे बढ़ते लोग ।
अगल-बगल को देखकर, बढ़े जलन का रोग ।
बढ़े जलन का रोग, करे मन ऐसा करना ।
करके वैसा काम, सफलता का पथ गढ़ना ।
सुन लो कहे रमेश, छोड़ कर अपनी सेखी ।
करलो खुद कुछ काम, बढ़ो तुम देखा-देखी ।।

-रमेशकुमार सिंह  चौहान 

error:

SURTA SHOP

SURTA SHOP में जाकर हमारे साहित्यिक किताबें खरीदें, जहां छंद शास्त्र और अन्य साहित्यिक पुस्तकें उपलब्ध हैं।

 

GO TO SURTA SHOP

You have Successfully Subscribed!

Share This