Select Page

अभिनंदन नववर्ष
(दुर्मिल सवैया )

अभिनंदन पावन वर्ष नया
दुख नाशक हो सुख ही करिये ।
नव भाग्य रचो शुभ कर्म कसो
सब दीनन के घर श्री धरिये ।
परिवार सभी परिवार बने
मन द्वेष पले उनको हरिये ।
जग श्री शुभ मंगलदायक हो
सुख शांति चराचर में भरिये ।।

-रमेश चौहान

error:

SURTA SHOP

SURTA SHOP में जाकर हमारे साहित्यिक किताबें खरीदें, जहां छंद शास्त्र और अन्य साहित्यिक पुस्तकें उपलब्ध हैं।

 

GO TO SURTA SHOP

You have Successfully Subscribed!

Share This